यह इतिहास है और यह क्रूर है! यह न मेरा है न और न तुम्‍हारा, यह केवल वस्‍तुनिष्‍ठ है!

यह इतिहास है और यह क्रूर है! यह न मेरा है न और न तुम्‍हारा, यह केवल वस्‍तुनिष्‍ठ है!

संदीप देव। पिछले दो दिनों से जातिवाद पर ऐतिहासिक तथ्‍यों के जरिए मैंने कुछ रोशनी डालने की कोशिश...

चंवरवंश के क्षत्रिए जिन्‍हें सिकंदर लोदी ने 'चमार' बनाया और हमारे-आपके हिंदू पुरखों ने उन्‍हें अछूत बना कर इस्‍लामी बर्बरता का हाथ मजबूत किया!

चंवरवंश के क्षत्रिए जिन्‍हें सिकंदर लोदी ने 'चमार' बनाया और हमारे-आपके हिंदू पुरखों ने उन्‍हें अछूत बना कर इस्‍लामी बर्बरता का हाथ मजबूत किया!

संदीप देव। आज जिन्‍हें आप 'चमार' जाति से संबोधित करते हैं, उनके साथ छूआछूत का व्‍यवहार करते हैं,...

महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

संदीप देव। मैं कानून का पालन करने वाला इंसान हूं और हर हाल में कानून का पालन करता हूं। लेकिन जिस...

धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्र उठाया, सूअर पाला, हिंदुओं ने उन्‍हें ही अछूत बना डाला!

धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्र उठाया, सूअर पाला, हिंदुओं ने उन्‍हें ही अछूत बना डाला!

संदीप देव। इतिहास जब पढने बैठता हूं तो काफी तकलीफों से घिर जाता हूं। आखिर किस तरह से अंग्रेज व...

इस्‍लामी कटरता व आतंकवाद का आखिरी निशाना हिंदुस्‍तान ही है!

इस्‍लामी कटरता व आतंकवाद का आखिरी निशाना हिंदुस्‍तान ही है!

संदीप देव। नाइजीरिया के खूंखार इस्‍लामी आतंकवादी संगठन बोको हराम ने खतरनाक इस्‍लामी आतंकी संगठन...

जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

संदीप देव। भारत से अधिक बलात्‍कार वाले देश अमेरिका व ब्रिटेन की मीडिया भारत सरकार पर हमलावर है,...

  • यह इतिहास है और यह क्रूर है! यह न मेरा है न और न तुम्‍हारा, यह केवल वस्‍तुनिष्‍ठ है!

    यह इतिहास है और यह क्रूर है! यह न मेरा है न और न तुम्‍हारा, यह केवल वस्‍तुनिष्‍ठ है!

  • चंवरवंश के क्षत्रिए जिन्‍हें सिकंदर लोदी ने 'चमार' बनाया और हमारे-आपके हिंदू पुरखों ने उन्‍हें अछूत बना कर इस्‍लामी बर्बरता का हाथ मजबूत किया!

    चंवरवंश के क्षत्रिए जिन्‍हें सिकंदर लोदी ने 'चमार' बनाया और हमारे-आपके हिंदू पुरखों ने उन्‍हें अछूत बना कर इस्‍लामी...

  • महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

    महिला दिवस की औपचारिकताएं छोडि़ए, पहले उन्‍हें न्‍याय दिलाने के लिए कदम उठाइए!

  • धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्र उठाया, सूअर पाला, हिंदुओं ने उन्‍हें ही अछूत बना डाला!

    धर्मांतरण रोकने के लिए जिन्‍होंने शस्‍त्र उठाया, सूअर पाला, हिंदुओं ने उन्‍हें ही अछूत बना डाला!

  • इस्‍लामी कटरता व आतंकवाद का आखिरी निशाना हिंदुस्‍तान ही है!

    इस्‍लामी कटरता व आतंकवाद का आखिरी निशाना हिंदुस्‍तान ही है!

  • जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

    जहां सबसे अधिक बलात्‍कार, वह सबसे बड़ा प्रवचनकर्ता!

तसलीमा को उस रात सेक्‍स सुख के साथ मिला था यौन रोग!

उस रात भी घर लौटकर, रूद्र मेरी मिन्नतें करता रहा, सुनो रानी बहू थोड़ी सहज हो जाओ। अपने को इतना सख्त मत रखो। अपनी देह को जरा नरम करो।रूद्र उस रात भी प्रशस्त किए गए राह में फिर दाखिल हुआ। अंधेरे कमरे में आंखें मून्दे-मून्दे  और अंधेरा महसूस करते हुए जब मै रूद्र की दी हुई पीड़ा अपने अंग-अंग में समो रही थी अचानक....अचानक एक सुखद अहसास! मेरे सिर से पांव तक, बिजली का करंट दौड़ गया। उस विद्युत की कौंध से रूद्र की पीठ पर मैने दसों उंगलियां गड़ा दी। मै हांफने लगी। हांफते-हांफते मैने पूछा क्या हुआ? रूद्र ने कोई जवाब नहीं दिया। मेरी सोना, मेरी माणिक, मेरी रानी बहू कहते हुए वह मुझ पर झुक आया। उस रात उसने एक बार नहीं बल्कि कई-कई बार मुझे तीखे सुख ने विभोर कर दिया। इस सुखद पीड़ा से मेरी नस-नस अवश होती रही। मै गहरे सुख-महासुख में आकुल-व्याकुल होती रही

.....................................

सिफलिस की बीमारी

खुजली कहां हो रही है?

कोई जवाब देने के बजाए रूद्र बत्ती बुझाकर लेट गया। मै भी उसकी बगल में लेट गई। उसके सीने पर हाथ रखकर, मैने कहा, कहीं कोई कैबिस तो नज़र नहीं आया है-
कहां? हुआ है
उस जगह पर!
किस जगह पर?
फेनिस में हुआ है।
कहां?
फेनिस मे़!
डेटाल क्यों लगाया?
डेटाल लगाना अच्छा होता है।
डेटाल लगाने को किसी डॉक्टर ने कहा है? ना-
मल्हलम किसने दी? किसी डॉक्टर ने?
नहीं खुद खरीदी है। यह मलहम क्या असर करेगी?

पता नहीं-
फिर  लगा क्यों रहे हो?
कैबिस हुआ हो? तो पायेथि्रन लगानी चाहिए। क्या बेहद खुजली होती है?

हां खुजली तो भयंकर होती है। दाने भी निकले हैं।

छोटा दाना है? दबाने से पानी निकलता है?

खास छोटा भी नहीं है।

बड़ा दाना तो निकलना नहीं चाहिए। दाना बड़ा क्यों होने लगा? खासा बड़ा ही है।
डॉक्टरी उत्साह से मै उठ बैठी मैने बत्ती जला कर कहा, उंहूं देखूं तो किस किस्म का है।

रूद्र ने लूंगी खिसका कर नीचे की। उसकी रोहेदार देह, नीचे के हिस्से में और ज्यादा रोमिल थी। घने-घने रोम के नीचे, एक सर्द पुरुषांग! पुरुषांग के सिरे पर एक लाल फूल! इस सुहाग सेज पर मेरी पहली रात के लिए किसी ने किसी किस्म के फूल भी नहीं बिछाए थे। न गुलाब, न गेन्दा, न जवा, न जूही। रूद्र के पुरुषांग का फूल ही मेरी सुहागरात बन गया।

ऐसे फूलदार पुरुषांग मैने ढेरों देखे थे। पुरुषांग पर उभरा ये घाव बेहद जाना पहचाना था । अस्पताल में यौन विभाग के आउटडोर में, पुरुष रोगी अपनी लुंगी खिसकाकर ठीक इसी किस्म के घाव दिखाते हैं । जिस घाव को यौन रोग के डॉक्टर सिफलिस का घाव बताते हैं। रूद्र का घाव भी सिफिलिस के घाव जैसा ही नज़र आ रहा था।
...............................

 

बेवफा पति

'वहां क्यों जाते हो? तुम तो मुझसे प्यार करते हो न?'

'हूं प्यार तो करता ही हूं।'

'मुझसे प्यार करते हो तो किसी दूसरी को कैसे छू पाए? इतने दिनों से तुम मुझ से झूठ बोलते रहे। तुम कहते रहे मेरे अलावा तुमने किसी को स्पर्श नहीं किया। तुम्हे अन्दाजा है, अभी भी मुझे इन बातों पर यकीन नहीं हो रहा है?'

मुझे यह विश्वास करने में बेहद तकलीफ हो रही थी कि रूद्र जैसे मेरे संग सोया था, वैसे ही किसी दूसरी औरत के साथ भी सोता रहा है। जिस तरह उसने मेरे होंठ, छाती चूमे हैं, उसी तरह और भी किसी को चूमता रहा है। हां, मुझे यह विश्वास करने में सच ही असहनीय कष्ट हो रहा था कि रूद्र और भी किसी औरत की गहराईयों में उतरा है। मुझे लगा जैसे मेरी नाव बीच दरिया में डूब गई। मै डूबती जा रही हूं। मुझ पर आसमान टूट पड़ा है। मेरी दुनिया टूट-फूटकर, टुकड़े-टुकड़े होकर बिखर गई हैं और वे टुकड़े लुढ़कते-पुढ़कते समुन्दर में गर्क होते जा रहे हैं।

तसलीमा नसरीन
(आत्‍मकथा: खंड-दो: उत्‍ताल हवा ) साभार: वाणी प्रकाशन 
      

नोट-तसलीमा ने घरवालों को बिना बताए रूद्र से शादी की थी ।  एक बार वह दोस्‍तों के साथ पिकनिक पर गई थी । लौटते वक्‍त वहां से निकलकर रुद्र के घर चली गई थी । वहीं उनकी सुहागरात हुई । सुहागरात को पहली बार शारीरिक संपर्क के दौरान उन्‍हें बेहद तकलीफ से गुजरना पड़ा था, यह आप पढ़ चुके हैं ।

यह अंश सुहागरात के बाद दूसरी रात का है। उस रात पहली बार तसलीमा को शारीरिक संबंध के दौरान चरम सुख हासिल हुआ , लेकिन साथ ही रूद्र से उन्‍हें 'सिफलिस ' जैसा भयंकर यौन रोग भी मिल गया । तसलीमा से पहले और उसके बाद भी रुद्र के संबंध कोठे की औरतों से थे, जहां से यह बीमारी उसे लगी थी। सुहाग की सेज पर ही उसने यह बीमारी तसलीमा को दे दी थी । बाद में इसकी वजह से तसलीमा को लंबी परेशानियों से जूझना पड़ा था । वह यह बात अपने घरवालों को भी नहीं बता सकती थी और न ही साथी डॉक्‍टरों से या  मयमनसिंह स्थित अपने अस्‍पताल में इलाज करा सकती थी । इससे भेद खुलने का खतरा था । वह एक बार फिर से घरवालों को बिना बताए रुद्र के पास ढाका शहर चली गई । और उसी के साथ जाकर अपना इलाज कराया था। 

तसलीमा नसरीन की आत्‍मकथा के महत्‍वपूर्ण खंड को यहां पढें:

तसलीमा नसरीन की वो सुहागरात!

तसलीमा की पहली शादी बड़ी अजीब थी!

तसलीमा नसरीन, पहला प्‍यार, पहली मुलाकात

अकेली लड़की और जीभ लपलपाते पुरुष

तसलीमा नसरीन: मामा के बाद चाचा ने भी किया यौन शोषण

तसलीमा नसरीन: बचपन में यौन शोषण

Add comment


Aadhiabadi Online Shopping

'आपातकाल में गुजरात' स्‍वयं नरेंद्र मोदी द्वारा लिखित पुस्‍तक है
Vikas - Shilpi Narendra Modi By M. V. Kamath & K Randeri
किताब में नरेंद्र मोदी: मोदी के खिलाफ हर साजिश से पर्दा उठाती एक मात्र पुस्...
Ramakrishna Paramahamsa: writer Pradeep pundit
महिलाओं के संपूर्ण विकास के 11 सूत्र
गुजरात के मुख्‍यमंत्री Narendra Modi के लेखों का संकलन
स्‍वामी विवेकानंद पर पं झाबरमल्‍ल शर्मा की एक उत्‍कृष्‍ट कृति
बख्तियार के दादाभाई द्वारा लिखित जेआरडी टाटा की जीवनी
apj abdul kalam books in hindi
लालकृष्‍ण आडवाणी के ब्‍लॉग का संकलन
Dr APJ Abdul Kalam की पुस्‍तक 'squaring the circle'का हिंदी अनुवाद
नरेंद्र सहगल की पुस्‍तक व्‍यथित जम्‍मू-कश्‍मीर
Biography of bal Gangadhar Tilak
Biography of mahatma gandhi
Biography of swami dayanand saraswati
personality development series: उच्‍च लक्ष्‍य प्राप्ति के गोल्‍डन रूल्‍स
   
Anand Masale

धर्म

होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा...
होली हिंदुस्‍तान की गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्‍यौहार है

अमृत साधना।गहरी प्रज्ञा से उपजा हुआ त्योहार है। उसमें पुराण कथा एक आवरण है, जिसमें लपेटकर मनोविज्ञान की घुट्टी पिलाई गई है। सभ्य मनुष्य के मन पर नैतिकता का इतना बोझ होता है कि उसका [...]

Other Articles

लाइफस्टाइल

वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अ...
वेतन बढ़ते ही अमेरिकी युवा हो जाते हैं अविश्‍वासी

वाशिंगटन। अमेरिका में युवाओं के बीच किए गए एक सर्वे में पता चला है कि आय बढ़ने के साथ युवाओं में दूसरों के प्रति भरोसा और सामाजिक संस्थानों में विश्वास कम होता जाता है। आज के युवा अपने पक्षों को [...]

Other Articles

मार्केट

योग गुरु से बिजनस टाइकून बने बाबा रामदेव...
योग गुरु से बिजनस टाइकून बने बाबा रामदेव, 2000 करोड़ का FMCG कारोबार

नई दिल्ली। भले ही योग और एफएमसीजी का संयोजन एक-दूसरे से एकदम उलट हो (योग आंतरिक शांति के लिए और एफएमसीजी बाहरी सौंदर्य के लिए) लेकिन बाबा रामदेव ने इन दोनों ही क्षेत्रों में एकदम सटीक ' [...]

Other Articles

लिटरेचर

आभार आपका...
आभार आपका...

संदीप देव।तिहास पढ रहा था, सोचा आपको बताऊं। मैं सभी मित्रों से अनुरोध करूंगा कि किसी के प्रति अपनी धन्‍यता प्रकट करने के लिए आप अंग्रेजी के 'थैंक्‍यू' की जगह हिंदी के बेहद [...]

Other Articles

होम मेकिंग

छोले भटूरे बनाने की विधि ...
छोले भटूरे बनाने की विधि

नई दिल्‍ली। छोले भटूरे पंजाब की पसंददीदा व्‍यंजन है। पंजाब सहित दिल्‍ली में छोटे-भटूरे खूब खाए जाते हैं। जहां भी पंजाबी गए, छोले-भटूरे बनाने की विधि साथ ले गए। इसे बनाना बेहद आसान है। आइए हम आपको [...]

Other Articles

टूरिज्‍म

अब आप सीधे अपनी गाड़ी से जा सकेंगे कैलाश...
अब आप सीधे अपनी गाड़ी से जा सकेंगे कैलाश मानसरोवर!

कैलाश मानसरोवर की तीर्थयात्रा करने की इच्छा रखने वाले श्रद्धालुओं और सैलानियों को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने एक बड़ा तोहफा दिया है. चीन इस यात्रा के लिए सिक्किम के नाथुला दर्रे से नया रास्ता खोलने पर सहमत [...]

Other Articles

ब्‍लॉग

हाशिमपुरा ने मुसलमानों को सोचने का अवसर ...

संदीप देव। मामले में अदालत का फैसला आया। पीडि़तों को इंसाफ नहीं मिला। लेकिन लाख टके का सवाल यह है कि खुद को धर्मनिरपेक्षता के झंडबदार के रूप में खुद को पेश करने वाली कांग्रेस और उसी कांग्रेस [...]

Other Articles

Additional information

Powered By