नारीवाद

'हमारे स्‍तनों की कठोरता तुम्‍हारे फतवे से कहीं अधिक है!'

संदीप देव। प्रकृति ने स्त्री-पुरुष में जो सबसे बड़ा अंतर किया है, वह उनका शरीर है। यह शरीर ही है, जिसकी वजह से जन्म लेते ही मनुष्य की पहचान 'लिंग' आधारित हो जाती है। जन्म के साथ पालन-पोषण से लेकर जिंदगी भर चलने वाली समाजीकरण की पूरी प्रक्रिया 'जननांग' केंद्रित है। पितृसत्‍तात्‍मक समाज शुरू से ही 'नर जननांग' को आक्रामकता और 'मादा जननांग' को समर्पण मानकर स्‍त्री शरीर का शोषण करता रहा है। चेतना आने पर नारी ने पितृसत्‍तात्‍मक समाज के शोषण का जवाब भी अपने शरीर में ही ढूंढा और अपने शरीर से ही उसकी सामंती सोच पर प्रहार भी किया!

इस्‍लाम को चुनौती देती नंगी महिलाएं!

नई दिल्‍ली। ट्यूनीशिश के कट्टरपंथी मुसलमान परेशान हैं! रात-दिन उनके सपनों में आने वाली 'नग्‍न स्त्रियां' सपने से बाहर निकलकर उन्‍हें चुनौती दे रही हैं! 19 साल की अमीना ने पहले अपना टी शर्ट उतारा, फिर ब्रा खोला और अपने उभरे हुए स्‍तन पर अरबी में लिख दिया, 'यह मेरी देह है, कोई तुम्हारी इज्जत नहीं.।' अमीना अपने टॉपलेस उभार, हाथ में सुलगती सिगरेट और अपने चेहरे की मुस्‍कान से इस्‍लाम के ठेकेदारों को बतला रही है कि महिलाओं का शरीर केवल पुरुषों के वासनापूर्ति का साधन नहीं, बल्कि नारी शरीर का एक आजाद वजूद भी है।

पुरुषों की कुंठा पर हंसो, डांस करो-जो चाहे करो मगर चुप न रहो!

श्‍वेता देव, नई दिल्‍ली। सच ही कहा गया है, सृजन या तो ईश्‍वर कर सकता है या फिर औरत...! ईश्‍वर को तो किसी ने देखा नहीं...और मानव का सृजन करने के बावजूद औरत को समाज में वो सम्‍मान मिला नहीं! लेकिन अब बहुत हुआ सम्‍मान पाने की लड़ाई, पितृसत्‍तात्‍मक समाज की मूढ़ता इस कदर है कि उनसे सम्‍मान पाने की लड़ाई लड़ने से अच्‍छा तो यह है कि उनकी कुंठा पर हंसा जाए, व्‍यंग्‍य किया जाए, डांस किया जाए, थोड़ा रोया तो थोड़ा चिल्‍लाया जाए, गुस्‍से का इजहार किया जाए, प्रतिकार किया जाए....लेकिन हर हाल में बस और बस 'बोला जाए'....!!

कैसे होगा बदलाव जब आदमी खा जाने वाली नजरों से स्‍त्री को घूरता है!

आशिमा। दिल्ली सामूहिक दुष्कर्म के बाद उपजे आक्रोश ने सामाजिक जागरूकता फैलाने का काम किया। मीडिया ने इसमें अहम भूमिका अदा की। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने भी उस युवती को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। स्क्रीन पर पीडि़ता की कहानी बयां की जा रही थी और उसके सामने मेरे जैसे सैकड़ों लोगों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे। मैं एंकर के साथ पूरी खबर में डूबी हुई थी और मेरे जज्बात भी उसी दिशा में बह रहे थे, लेकिन एंकर ब्रेक लेता है और मेरे जज्बातों पर एक हथौड़ा-सा पड़ता है।

देह से दबी स्त्री

मृणाल वल्लरी। अभी तक हमारे जेहन में पाकिस्तानी विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार की उस भारत यात्रा की यादें ताजा हैं, जब भारतीय मीडिया ने उन्हें खूबसूरती, तन पर पहने कपड़ों, गहनों और उनके पर्स तक ही समेट दिया था. इसके पहले किसी विदेशी महिला नेता के कपड़ों पर मीडिया ने ऐसी हाय-तौबा नहीं मचाई थी. लेकिन हिना एक औरत हैं और वह भी सामाजिक सौंदर्यबोध के हिसाब से बेहद खूबसूरत.

Additional information

Powered By